kaalSarpDoshPujanGuruJi

Maha Mrityunjaya Jaap in Ujjain

Maha Mrityunjaya Puja Cost in Ujjain

बहुत बार हमें महा मृत्युंजय जाप पूजा के बारे में जानने से ज्यादा चिंता महा मृत्युंजय जाप पूजा में कितना खर्च आएगा ये जानने की होती है, लेकिन मन में अगर महा मृत्युंजय जाप पूजा का संकल्प किया हो तो खर्चे की चिंता नहीं करनी चाहिए, गुरु जी से परामर्श कर सकते है।

महाकालेश्वर मंदिर, उज्जैन, मध्यप्रदेश में महाकाल ज्योतिर्लिंग की पूजा में महामृत्युंजय जाप(Mahamrityunjaya Puja) पूजा एक विशेष महत्त्व है जो भगवान शिव को समर्पित है। इस पूजा का आयोजन बहुत से भक्तों और पूजार्थियों के द्वारा करवाया जाता है जो भगवान महाकाल के दर्शन करने और उनसे कृपा प्राप्त करने के इच्छुक होते हैं।

महामृत्युंजय पूजा मुख्यतः भगवान शिव की महामृत्युंजय मंत्र का पाठ करने पर आधारित है, जिसे ‘त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्’ कहा जाता है। इस मंत्र का पाठ करने से भक्त भगवान शिव से मृत्यु और रोग की रक्षा मांगते हैं और उनकी कृपा का आशीर्वाद प्राप्त करने का प्रयास करते हैं।

इस पूजा के दौरान भक्तगण निरंतर श्रद्धा भाव से मंत्र का जाप करते हैं और अपने मानसिक, शारीरिक, और आध्यात्मिक स्वास्थ्य की रक्षा के लिए भगवान की कृपा की प्राप्ति का आशीर्वाद मांगते हैं।
उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर भारतीय सांस्कृतिक और धार्मिक इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान है, और यहां होने वाली महामृत्युंजय जाप पूजा भक्तों को अपने आद्यात्मिक उन्नति की दिशा में प्रेरित

महामृत्युंजय मंत्र का उच्चारण विधि:
महामृत्युंजय मंत्र का उच्चारण करने के लिए व्यक्ति को श्वास लेने की विधि का पालन करना चाहिए। इसे शुभ समय और शुद्ध मन से करने से इसके प्रभाव में वृद्धि होती है।

महामृत्युंजय मंत्र:
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

महामृत्युंजय जाप के लाभ:
शारीरिक और मानसिक रूप से रोगों से रक्षा करता है।
जीवन के विभिन्न कठिनाइयों को दूर करने में सहायक होता है।
ध्यान और धारणा की शक्ति को बढ़ाता है।
आत्म-विकास और आध्यात्मिक उन्नति में सहायक होता है।

महामृत्युंजय मंत्र (Mahamrityunjaya Jaap) शरीर, मन, और आत्मा के संतुलन को बनाए रखने में सहायक होता है और एक पवित्र जीवन की प्राप्ति के लिए साधकों के लिए एक अमूल्य संसाधन है। हम सभी को इस मंत्र का नियमित जाप करते रहना चाहिए।